UPSC Succcess Story: इन तीन दोस्तों ने की एक साथ क्रैक UPSC परीक्षा, बन गए IAS-IPS अफसर

Join WhatsApp Join Group
Like Facebook Page Like Page

UPSC Succcess Story: जाने यहाँ तीन दोस्तों की सफलता की कहानी

UPSC Succcess Story: दोस्तों जेसया की आप सभी जानते है यूपीएससी को देश की सबसे मुश्किल परीक्षा में से एक माना जाता है। इस परीक्षा को पास करने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। आज हम आपको ऐसे दोस्तों के बारे में बताने जा रहे हैं जो लाखों लोगों के लिए मिसाल बन गए।

UPSC Succcess Story: ऐसी की पढ़ाई की तीनों बन गए IAS-IPS 

आज हम आपको उन तीन दोस्तों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने एक साथ मिलकर मौज-मस्ती तो की, लेकिन साथ में पढ़ाई भी की और पढ़ाई ऐसी की कि तीनों के तीनों एक साथ आईएएस (IAS) और आईपीएस (IPS) ऑफिसर बन गए.

UPSC Succcess Story: एक साथ तीनों दोस्तों ने क्रैक की UPSC परीक्षा

हम बात कर रहे हैं आईपीएस साद मियां खान (IPS Saad Mian Khan), आईएएस विशाल मिश्रा (IAS Vishal Mishra) और IAS गौरव विजयराम कुमार (IAS Vijayram Kumar) की, जिन्होंने UPSC सिविल सेवा परीक्षा के लिए एक साथ पढ़ाई की और एक साथ ही परीक्षा क्रैक कर IAS व IPS ऑफिसर बन गए.

दरअसल, तीनों दोस्तों में से साद मियां खान को सबसे हाई रैंक मिली थी. उन्होंने UPSC सिविल सेवा परीक्षा में ऑल इंडिया 25वीं रैंक हासिल की थी. हालांकि, इसके बावजूद उन्होंने आईएएस के बजाय IPS चुनने का फैसला किया था.

UPSC Succcess Story: ऐसे शुरू हुई इनकी दोस्ती

साद मियां खान यूपी के बिजनौर जिले के रहने वाला है और उन्होंने कानपुर से अपने दोस्त विशाल के साथ B.Tech की डिग्री हासिल की थी. दोनों के बीच साल 2007 में दोस्ती हुई.

Read More  Kisan Portal: किसानों के लिए जी का जंजाल बना मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल: कुमारी सैलजा

साद और विशाल मिश्रा ने साल 2012 में सिविल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरा किया और इसके बाद UPSC परीक्षा में शामिल होने का फैसला किया और तैयारी के लिए दिल्ली चले आए.

यहां उनकी मुलाकात गौरव से हुई और तीनों धीरे-धीरे गहरे दोस्त बन गए. तीनों ने एक साथ दिल्ली में UPSC सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी.

UPSC Succcess Story: IAS की रैंक पाकर भी चुना IPS

साद मियां खान ने पहली बार साल 2013 में यूपीएससी की परीक्षा दी थी, जिसमें वह फेल हो गए. इसके बाद वह चार बार यूपीएससी सीएसई में शामिल हुए, लेकिन साल 2017 में वह अपने पांचवें प्रयास में इस परीक्षा को पास करने में सफल हो गए.

परीक्षा में उन्होंने ऑल इंडिया 25वीं रैंक हासिल की थी, लेकिन यूपीएससी में इतनी अच्छी रैंक हासिल करने के बावजूद साद ने आईएएस की जगह आईपीएस (IPS) का पद चुना.

 

Also Read: Agriculture women success Story: सिरसा के इस गांव की बहू बनी किसानों के लिए रोल मॉडल

 

UPSC Succcess Story: इंटरव्यू में दोस्तों को दिया तैयारी का श्रेय

वहीं, गौरव विजयराम कुमार ने साल 2017 में यूपीएससी की परीक्षा पास की थी. जिसमें उन्होंने 34वीं रैंक हासिल की थी. एक इंटरव्यू में जब गौरव से उनकी तैयारी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मैं अपने दोस्तों के साथ सभी योजनाओं, मुद्दों और सवालों पर चर्चा करता था. उन्होंने बेहतर रणनीति बनाने में मेरी बहुत मदद की.”

UPSC Succcess Story: मेंस परीक्षा के लिए नहीं थे तैयार

आपको बता दें, गौरव ने चौथे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास की थी. अपने पहले तीन प्रयासों में उन्हें सफलता नहीं मिली. उन्होंने कहा, “शुरुआती प्रयास में, मैं मेंस परीक्षा के लिए अच्छी तरह से तैयार नहीं था और बाद के प्रयास में मुझे जनरल स्टडीज के पेपर में अच्छे अंक नहीं मिले.”

Read More  Success Story:- चपरासी का बेटा बना डिप्टी कलेक्टर, UPPSC में हासिल की 24वीं रैंक

UPSC Succcess Story: ऐसे आईएएस बने विशाल

IAS विशाल मिश्रा उत्तराखंड से हैं और उन्होंने कानपुर में साद मियां खान के साथ पढ़ाई की है. वह पेशे से इंजीनियर हैं और उन्होंने आईआईटी कानपुर से एम.टेक की डिग्री हासिल की है.

इसके बाद उन्होंने भी यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी. यूपीएससी सीएसई 2017 में उन्होंने 49वीं रैंक के साथ परीक्षा पास की, जिसके बाद वह आईएएस अधिकारी बन गये.

Raman

Ramandeep Singh village ramgarh sirsa (haryana)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button